blogपिता बनने का एहसास - Varun Surana

February 19, 2019by Varun Surana0

जब तक पिता बनने का एहसास नहीं हुआ शायद कभी ठीक से नहीं समझ पाया की माता पिता बनने का क्या एहसास होता है , डॉक्टर ने जब मुझे तुम्हारे होने से पहले तुम्हारी अलग अलग स्थितियों के फोटो दिखाये तब यह भी पता पड़ा की जन्म लेना भी आसान नहीं होता जितनी तकलीफ तुम्हारी माँ को तुम्हारे जन्म लेते वक्त होगी शायद उससे कई ज्यादा तुम्हें 9 माह के अंतराल मे गर्भ मे हुई होगी , मैंने फोटो मे देखा की किस तरह तुम लगभग 2 महीने उल्टे अपनी माँ के गर्भ मे रहते हो मुझे कोई 2 घण्टा भी उस तरह रहने के लिए कह दे तो मेरे लिए संभव नहीं , माना की बचपन बहुत खास होता है पर जन्म लेने से पहले का बचपन शायद उतना आसान नहीं , इसी बीच मे मुझे यह भी एहसास हुआ की तुम्हारे साथ तुम्हारी माँ की जिंदगी भी बदल गई, जो रोज गोभी की खुशबु से रसोई को महकाया करती थी आजकल देखती तक नहीं है वही जहां मीठा उसके प्लेट से हमेशा दूर होता था आज कल वो फोन करके कहती है कुछ अच्छा सा मीठा लेते आना ।
सच मे तुम्हारे आने का एहसास बहुत खास है जिंदगी मे पहली बार अनदेखी अंजान स्थिति से कुछ ऐसा लगाव सा हो गया है की शब्दों मे ठीक से बयां भी नहीं हो सकता। रोज तुम्हारी मम्मी से से 10 बार पूछता हूँ बेबी सो रहा है / रही है या जागा हुआ है दिन मे दस बार तुम्हें गोद मे लेने का मन करता है पर अभी उसमे वक्त है लेकिन फीलिंग्स को कौन रोक सकता है भला !
पहली बार डॉक्टर ने जब सोनोग्राफी के वक्त तुम्हारी धड़कन सुनाई थी वो आज भी मेरे कानों मे गूँजती है जहां कोई छोटा बच्चा नजर आ जाए तुम्हारी छवि सी नजर आने लगती है, तुम्हारी मम्मी की नज़रें पहले साड़ी सूट पर पड़ती थी आजकल बच्चों की ड्रेसेज को देख ऐसा खुश होती है की बस उसकी स्माइल देख कर ही मेरी जिंदगी सार्थक सी लगने लगती है वैसे तो तुम्हारी मम्मी ने जिंदगी मे मुझे जितना प्यार ओर सपोर्ट दिया वो हमेशा ज्यादा रहा 21वीं सदी मे ऐसी पत्नी मिलना भी शायद मेरे पिछले या इसी जन्मों के अच्छे कर्मों का नतीजा है पर जो एहसाह तुम्हारे आगमन से वो मुझे देगी वो शायद मेरी जिंदगी का सबसे खुश पल होगा तुम्हारी दादी और नानी अभी से तुम्हारी साइड लेने लगी है ओर रोज सेहत के हाल चल जाने बिना उनका भी मन नहीं लगता, तुम्हारे साथ अच्छा communication हो सके उसके लिए तुम्हारी दादी ने अब अच्छे से इंग्लिश मे सीख ली क्योंकि उन्हे लगता है मॉडर्न बच्चे के हिसाब से दादी भी updated होनी चाहिए ना, उनकी ये लग्न भी अपने आप मे बहुत बड़ा inspiration है ।
वैसे तो हर माता पिता को जिंदगी मे सबसे ज्यादा बुरा लगता है जब उनके बच्चे उन पर हाथ उठाए या पाव से मार दे पर एक यही वक्त है जब माता पिता इस मौके को भी खुशी खुशी स्वीकार लारते है साथ ही किसी दिन तुम अगर अंदर कोई हलचल ना करो या तुम्हारी मम्मी की भाषा मे कहूँ की तुम लात न मारो तो उल्टा टेंशन हो जाती है ।
डॉक्टर जब तुम्हारे मूमेंट्स के बारे मे बताती थी तो सोच कर बहुत घबराहट होती है की तुम यह सब कैसे मेनेज करते होंगे, कितनी ही रातें बेचेनी की चलते ठीक से सोयी नहीं तुम्हारी माँ लेकिन मुझे पूरा यकीन है जिस दिन तुम आ जाओगे शायद सारे दर्द, बेचेनी भरी रातें आदि हमारी जिंदगी से गायब से हो जाएंगे ।
आखिर कर वो घड़ी आ गई, 25 जुलाई 2016 का दिन शायद मेरी जिंदगी का सबसे लंबा दिन था, जब तुम्हारी मम्मी प्रसव कक्ष मे थी ओर मैं बाहर बैठा था 1-1 मिनट बहुत भरी था मन मे अजीबो गरीब विचार आ रहे थे पर जैसे तैसे दिन निकाल गया ठीक 5.30 मिनट पर डॉक्टर ने आकर कहा मुबारक हो घर मे लक्ष्मी जी आई है ओर ये सुनते ही मुझे एक बार के लिए यकीन नहीं हुआ क्योंकि हम शुरू से चाह रहे थे की बेटी हो क्योंकि परिवार मे लगभग 50 साल से किसी बेटी ने जन्म नहीं लिया था पर जैसे ही यह खबर सुनी पूरे परिवार मे जश्न का महोल सा हो गया , मेरे गृह नगर मे बेटा होने पर बैंड बाजे बजवाने की परंपरा है पर मेरी मम्मी ने उस रूढ़िवादिता को दरकिनार करते हुए तुरंत कहा की बेटा घर पर बैंड बाजे बजवाओ इतने सालो बाद बेटी आई है, यह शायद पहला मौका था जब मेरे गृह नगर के आसपास किसी बेटी के जन्म लेने पर बैंड बाजे बजे थे। खैर तुम्हारा नाम हमने पहले से ही सोच रखा था बहुत सारे नामों पर सोचने के बाद हमने तय किया की नाम ऐसा होना चाहिए जिसमे पापा ओर मम्मी दोनों का नाम आए ओर हमने तय नाम VANYA (Varun & Yamini) से मिलकर बनाया हुआ नाम जिसका अर्थ थे Gracious Gift Of God और हमने वही नाम रखा आखिर तुम थी भी gracious gift.
ओर उसी दिन तुम्हारे जन्म के साथ ही हमारा भी एक नया जीवन शुरू हुआ तुम तो पैदा होते ही छोटी बच्ची ही थी लेकिन मै पापा ओर मेरी पत्नी मम्मी बन गई एक प्यारी सी बिटिया

Varun Surana

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *